अफगानिस्तान : बर्तन, गद्दे, पंखे बेचने पर मजबूर लोग, संयुक्त राष्ट्र ने बढ़ाया मदद का हाथ

अमेरिका में मौजूद अफगानिस्तान का विश्व बैंक अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष और केंद्र बैंक ने अफगानिस्तान तक उसकी आर्थिक सहायता पहुंचाने से रोक दिया है

अफगानिस्तान : बर्तन, गद्दे, पंखे बेचने पर मजबूर लोग, संयुक्त राष्ट्र ने बढ़ाया मदद का हाथ

अफगानिस्तान में जब से तालिबान ने कब्जा किया है तब से लोगों को कई प्रकार की समस्याओं का सामना करना पड़ रहा है ऐसे में देश के अंदर आर्थिक संकट भी काफी बढ़ रहा है. बता दें कि 15 अगस्त को तालिबान ने अफगानिस्तान की राजधानी काबुल पर नियंत्रण पा लिया था इसके बाद से ही अफगानिस्तान भयंकर नगदी संकट का सामना कर रहा है.

अमेरिका में मौजूद अफगानिस्तान का विश्व बैंक अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष और केंद्र बैंक ने अफगानिस्तान तक उसकी आर्थिक सहायता पहुंचाने से रोक दिया है। पूरे अफगानिस्तान में बैंक कई दिनों से बंद चल रहे हैं और एटीएम मशीन भी खाली पड़ी हुई है अब बैंक खुल गए हैं लेकिन नगदी के इंतजार में लोग लंबी कतारों में खड़े हुए नजर आ रहे हैं ऐसे में मजबूरन लोगों को अपने घर का सामान बेचना पड़ रहा है।

यह भी पढ़े : भगवान श्री राम के दर्शन करने अयोध्या पहुंचे दिल्ली के डिप्टी सीएम मनीष सिसोदिया

विदेशी मीडिया रिपोर्ट्स से मिली जानकारी की माने तो बड़ी संख्या में लोग भोजन और बुनियादी जरूरतों की चीजों के लिए भारी नुकसान पर अपने घर का सामान बेच रहे हैं। अफगानिस्तान की राजधानी काबुल के चमन ए होजरी स्थान पर करोड़ों लोग रोजाना रेफ्रिजरेट, पंखे, ,तकिया, कंबल, पर्दे, बिस्तर, गद्दे, बर्तन, चांदी का सामान बेचने के लिए पहुंच रहे हैं।