लखनऊ : घरों से कूड़ा ना उठाने पर इको ग्रीन कंपनी पर लगा जुर्माना

शहर की सड़कों से निकलने पर दुर्गंध से बचने के लिए नाक पर रुमाल रखना पड़ रहा है कई बार जुर्माना और नोटिस जारी किए जाने के बाद भी कंपनी में कोई सुधार देखने को नहीं मिला

लखनऊ : घरों से कूड़ा ना उठाने पर इको ग्रीन कंपनी पर लगा जुर्माना

उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में कई सालों से शहर का कूड़ा प्रबंधन देख रही इको ग्रीन कंपनी फेल साबित होती नजर आ रही है दरअसल इस कंपनी पर एक बार फिर से जुर्माना लग गया है। जानकारी सामने आई है कि यह कंपनी कूड़े का प्रबंधन करने के बजाय कुप्रबंधन कर रही है, इसके कारण लखनऊ वासियों को गंदगी और कूड़े के बीच में रहना पड़ रहा है।

शहर की सड़कों से निकलने पर दुर्गंध से बचने के लिए नाक पर रुमाल रखना पड़ रहा है कई बार जुर्माना और नोटिस जारी किए जाने के बाद भी कंपनी में कोई सुधार देखने को नहीं मिला और नगर निगम कंपनी से अनुबंध खत्म करने में असहायसा  महसूस कर रही है क्योंकि शासन ने कंपनी से अनुबंध कर रखा है और शासन के अवसर किसी तरह की कार्यवाही करने के बजाय मौन है।

यह भी पढ़े : यूपी में चुनावी विज्ञापनों पर पैनी रहेगी चुनाव आयोग की नजर

नगर निगम सदन में भी पार्षद एक सुर से कंपनी केा खिलाफ आवाज उठाने के साथ ही अनुबंध खत्म करने की मांग कर चुके हैं।महापौर ने मेसर्स इकोग्रीन के अधिकारियों को कड़ी फटकार लगाई, और सारा कूड़ा हटाने के निर्देश दिए। महापौर ने पाया कि कूड़ा बीनने वाले कूड़े से प्लास्टिक निकालकर बोरों में अलग से रखे थे। करीब तीन दर्जन बोरों में प्लास्टिक एकत्र थी। महापौर ने कड़ी नाराजगी जताते हुए मौके पर मौजूद ईकोग्रीन के अधिकारी राजेश मथ और नागार्जुन रेडी से जबाब तलब किया तो इकोग्रीन के अधिकारी बगले झांकने लगे और कोई उत्तर न दे सके।