सुंदर पिचाई ने भारत में कोरोना के रिकॉर्डतोड़ मामलो को देखते हुए चिंता जताई, मदद के लिए 135 करोड़ रुपये के फंड का किया बड़ा एलान

भारत में कोरोना वायरस के कारण मची तबाही देखते हुए हर तरफ से मदद के हाथ आगे आने लगे हैं। कई देश व चर्चित हस्तियां भारत में मेडिकल ऑक्सीजन व अन्य संसाधनों की कमी को पूरा करने के लिए सामने रही हैं।

सुंदर पिचाई ने भारत में कोरोना के रिकॉर्डतोड़ मामलो को देखते हुए चिंता जताई, मदद के लिए 135 करोड़ रुपये के फंड का किया बड़ा  एलान

भारत में कोरोना वायरस के कारण मची तबाही देखते हुए हर तरफ से मदद के हाथ आगे आने लगे हैं। कई देश व चर्चित हस्तियां भारत में मेडिकल ऑक्सीजन व अन्य संसाधनों की कमी को पूरा करने के लिए सामने रही हैं। इसी कड़ी में अमेरिकी बहुराष्ट्रीय तकनीकी कंपनियों के भारतीय मूल के दो सीईओ ने भी भारत की मदद को हाथ बढ़ाया है। हम बात कर रहे हैं गूगल के सीईओ सुंदर पिचाई व माइक्रोसॉफ्ट के सीईओ सत्य नडेला की। देश में कोरोना के कारण उत्पन्न हुए संकट को लेकर सुंदर पिचाई ने चिंता जताई है और मदद के लिए 135 करोड़ रुपये के फंड का एलान किया।

यह भी पढ़े :- West Bengal Election 2021 : बंगाल चुनाव के बीच कोलकाता में रिकॉर्डतोड़ कोरोना के मामले सामने आ रहे है, पढ़े

पिचाई ने कहा, ‘भारत में कोरोना संकट के कारण बिगड़ते हालात को देखकर चिंतित हूं। गूगल और इसके लोग भारत को चिकित्सा की आपूर्ति में मदद के लिए 135 करोड़ रुपये फंड के तौर पर दे रहे हैं।’

माइक्रोसॉफ्ट के सीईओ सत्य नडेला भी करेंगे मदद


पिचाई की तरह ही माइक्रोसॉफ्ट के सीईओ सत्य नडेला भी भारत की मदद के लिए आगे आए हैं। नडेला ने अपने ट्वीट में कहा, 'मैं भारत की वर्तमान स्थिति से बहुत दुखी हूं। मैं आभारी हूं कि अमेरिकी सरकार मदद करने में जुट गई है। माइक्रोसॉफ्ट राहत प्रयासों में सहायता के लिए अपनी आवाज, संसाधनों और टेक्नोलॉजी का उपयोग करना जारी रखेगा। साथ ही महत्वपूर्ण ऑक्सीजन कन्सन्ट्रेशन डिवाइस की खरीद में मदद करेगा।'

कोरोना की दूसरी लहर की मार झेल रहे भारत की मदद के लिए अब अमेरिका, फ्रांस और कनाडा  समेत कई देशों ने मदद का हाथ बढ़ाया है। न्यूयॉर्क से भारत के लिए तीन सौ से अधिक ऑक्सीजन कंसनट्रेटर भेजे गए  हैं। वहीं, कनाडा भारत की मदद करने के लिए तैयार है। कनाडा भारतीय अधिकारियों तक यह निर्धारित करने के लिए पहुंचा है कि जरूरत के इस समय में हम किस तरह भारत की मदद कर सकते हैं। इसके अलावा इंग्लैंड भारत को कोविड से लड़ने वाले मेडिकल उपकरण भेज रहा है, तो सऊदी अरब ऑक्सीजन की सप्लाई कर रहा है।